• Nirmal Bhatnagar

खेल शिविर से सीखें व्यवसाय या स्टार्टअप को सफल बनाने के 7 मंत्र - भाग 1

May 16, 2022

फिर भी ज़िंदगी हसीन है…




दोस्तों, आज कल हममें से कई लोग संध्या के समय मनोरंजन के उद्देश्य या फिर खेल के प्रति अपनी दीवानगी की वजह से आईपीएल मैच देख रहे हैं जो ‘नॉक आउट’ के दौर तक पहुँचते-पहुँचते काफ़ी रोमांचक भी हो गया है। वैसे मेरी नज़र में खेल सिर्फ़ मनोरंजन या खुद को शारीरिक रूप से फ़िट रखने का साधन नहीं है बल्कि हम इससे मिली सीख से अपने जीवन को बेहतर बना सकते हैं।


अगर आप हाल ही में हुए आईपीएल मैचों पर गौर करेंगे तो आप पाएँगे कि वही टीम अच्छा प्रदर्शन कर पा रही है जो टीम भावना के साथ खेल रही है क्यूँकि एक अच्छे खिलाड़ी के रूप में आप बेहतरीन प्रदर्शन कर ‘मैन ऑफ़ द मैच’ या ‘एक बेहतरीन खिलाड़ी’ तो कहला सकते हैं, लेकिन विजेता नहीं बन सकते हैं। जी हाँ दोस्तों, टीम भावना के बिना विजेता बनने की चाह रखना एक प्रकार से खेल के मैदान में गिरी एक छोटी सी सुई को खोजना है। इसीलिए जो टीम विजेता बनना चाहती है, वह प्रशिक्षण शिविर के ज़रिए सबसे पहले अनुभवी और नए खिलाड़ियों के एक अनाकार समूह को एकजुट इकाई में बदलकर, विजेता बनने के लिए प्रेरित करती है। प्रशिक्षण शिविर में एकजुट इकाई बनने के बाद ही दिग्गज खिलाड़ी अपनी तकनीक को और निखारते हैं और नए ऊर्जावान खिलाड़ी उनसे खेल की बारिकियाँ सीखते हैं।


खेल में विजेता बनने का ‘टीम भावना’ का यह सूत्र दोस्तों स्टार्टअप और व्यवसायियों को भी सफल बना सकता है। आइए आज हम खेल शिविर में विजेता बनाने के लिए सिखाई जाने वाली महत्वपूर्ण बातों से अपने व्यवसाय या स्टार्टअप को सफल बनाने के 7 मूलमंत्र सीखते हैं-


पहला मंत्र - जीत को लक्ष्य बनाए

दोस्तों, अगर आपने 1983 क्रिकेट विश्वकप जीत पर बनी फ़िल्म 83 देखी होगी तो आपने देखा होगा मैच खेलने जाने के पहले टीम मेनेज़र/कोच कप्तान कपिल देव को बस में टीम मीटिंग आयोजित करने के लिए कहता है, जिसमें वह कप्तान कपिल देव से एक जोशीले भाषण की उम्मीद रखता है। असल में सभी खिलाड़ियों और टीम के सदस्यों को एक साथ लेकर टीम मीटिंग करने का मुख्य उद्देश्य वहाँ मौजूद सभी लोगों के लक्ष्य को एक समान बनाना होता है।


इसी तरह एक स्टार्टअप या व्यवसाय को सफल बनाने के लिए लक्ष्य को निर्धारित करना महत्वपूर्ण होता है। अगर लक्ष्यों का निर्धारण जल्दी कर लिया जाए तो आप समान मूल्य और लक्ष्य वाले जुनूनी लोगों को चुनकर अपनी टीम बना सकते हैं या फिर ट्रेनिंग के माध्यम से पूर्व में चुने गए टीम मेम्बरों के लक्ष्य और मूल्य एक समान बनाकर उनमें लक्ष्य पाने का जुनून पैदा कर सकते हैं। दोस्तों, अगर आप समान लक्ष्य के लिए, अपनी टीम में जुनून और जोश पैदा कर दें तो फिर आपके सपनों को हक़ीक़त में परिवर्तित होने से कोई रोक नहीं सकता है। फिर भले ही आपके लक्ष्य हर बार वृद्धिशील ही क्यों ना हों। वैसे भी हार्वर्ड बिजनेस स्कूल द्वारा किए गए अध्ययन के परिणाम बताते हैं कि लक्ष्य तय कर, उसे लिखकर रखने वाले लोग अपने साथियों की तुलना में 10 गुना अधिक सफलता पाते हैं।


दूसरा मंत्र - टीम में विश्वास पैदा करें

एन॰एफ़॰एल॰ के प्रसिद्ध कोच बिल पार्सल्स के अनुसार, ‘अगर खिलाड़ी, कोच और टीम के अन्य सदस्यों पर भरोसा नहीं करता है तो यह एक समस्या है। भरोसे के बिना टीम का असफल होना तय है।’ इसीलिए टीम प्रशिक्षण के दौरान कोच एक दर्शन या एक सोच विकसित करने के लिए कार्य करते हैं क्यूँकि वे जानते हैं कि अगर खिलाड़ी वही करना शुरू करदे जो उससे अपेक्षित है तो आपको विजेता बनने से कोई नहीं रोक सकता है।

स्टार्टअप या व्यवसाय के कार्यस्थल में भी यह उतना ही महत्वपूर्ण है। अगर आप एक स्टार्टअप या व्यवसाय के रूप में अपनी टीम में आपके प्रति, आपके विचार के प्रति और वहाँ मौजूद सभी लोगों अर्थात् टीम के सभी सदस्यों के प्रति, विश्वास पैदा कर दें, तो लक्ष्य पाना आसान हो जाता है। इसके लिए आपको ईमानदारी के साथ पारदर्शी नीति बनाना होगी और उन्हें प्रशिक्षित करने के बाद, उन पर विश्वास जताते हुए काम करने की छूट देना होगी जिससे उनमें इस बात के प्रति विश्वास पैदा हो सके कि आपका लक्ष्य उनकी और आपकी, दोनों की तरक़्क़ी है। गूगल के सीनियर वी॰पी॰ लाज़लो ब्लॉक कहते हैं, ‘अपनी टीम के प्रति पारदर्शी और ईमानदार रहें, उन्हें सिखाएँ कि चीज़ें कैसे काम करती है और यह सिखाने का एकमात्र तरीक़ा अपने अधिकारों का थोड़ा सा त्याग कर, उन्हें आगे बढ़ने के लिए जगह देना है।’


आज के लिए इतना ही दोस्तों, कल हम खेल शिविर से व्यवसाय या स्टार्टअप को सफल बनाने के अगले तीन मंत्र सीखेंगे।


-निर्मल भटनागर

एजुकेशनल कंसलटेंट एवं मोटिवेशनल स्पीकर

nirmalbhatnagar@dreamsachievers.com

10 views0 comments