• Nirmal Bhatnagar

सिर्फ़ एक मुस्कुराहट - समस्याओं का समाधान

Aug 26, 2022

फिर भी ज़िंदगी हसीन है…

दोस्तों, ईश्वर ने हम सभी को एक ऐसी खूबी या विशेष क्षमता से नवाज़ा है, जिसके सही उपयोग से आप ना सिर्फ़ खुद को विपरीत से भी विपरीत परिस्थितियों में विजेता बना सकते हैं बल्कि दूसरों को भी स्वयं के जीवन को बेहतर बनाने में मदद कर सकते हैं। इस विशेष क्षमता को मैं आपको एक ऐसी घटना से बताने का प्रयास करता हूँ जिसकी सत्यता की तो मैं पुष्टि नहीं करता, लेकिन अगर कोई बात या घटना हमारे जीवन को बेहतरीन या सकारात्मक रूप से आगे बढ़ा सकती है तो उसे सीखने में हर्जा ही क्या है?, तो चलिए शुरू करते हैं-


यह बात उस वक्त की है जब जर्मनी में हिटलर का राज था और वे नाज़ियों को ढूँढ-ढूँढ कर टॉर्चर रूम में डाल, मौत के घाट उतारा करते थे। उस वक्त हिटलर के सैनिक कितने क्रूर थे, इसका अंदाज़ा आप इस बात से लगा सकते हैं कि नाज़ी पकड़ाए जाने या बल्कि हिटलर के सैनिकों द्वारा खोज लिए जाने को ही अपनी मौत मान लिया करते थे। हिटलर के यही सैनिक एक बार छुप कर रह रही हेलेन, जो कि एक नाज़ी थी, के परिवार के पास पहुँच गए और उन्हें पकड़ कर कारागार में डाल दिया।


हेलेन और उनके परिवार को इस बात का भली-भाँति अंदाज़ा था कि जेल अधिकारी के एक ऑर्डर या इशारे पर उन्हें मौत के घाट उतार दिया जाएगा। लेकिन इसके बाद भी हेलेन कारागार में सामान्य तरीक़े से रहा करती थी। एक दिन वह दिन भी आ गया जब हेलेन और उनके परिवार को जेल के अधिकारी के समक्ष प्रस्तुत किया गया। लेकिन सैनिकों, हेलेन और उसके परिवार सभी की आशा के विपरीत उस क्रूर सैन्य अधिकारी ने मौत की सजा सुनाने के स्थान पर हेलेन और उसके परिवार की जान बख्शते हुए, अपने देश को छोड़ दूसरे देश बसने के लिए मजबूर किया।


आप सोच रहे होंगे, आख़िर ऐसी क्या बात थी जिसने हिटलर के सैन्य अधिकारी को हेलेन और उनके परिवार की जान बख्शने के लिए मजबूर कर दिया। तो चलिए, आगे बढ़ने से पहले मैं आपकी उस जिज्ञासा को शांत कर देता हूँ। असल में, जेल अधिकारी प्रतिदिन जब भी चेकिंग करने के लिए कारागार में जाया करते थे, तब हेलेन बिना कुछ कहे मुस्कुरा कर उन्हें देखा करती थी। हालाँकि हेलेन की मुस्कुराहट का जवाब कभी भी उस जेल अधिकारी ने मुस्कुरा कर नहीं दिया, लेकिन इसके बाद भी हेलेन ने रोज़ मुस्कुराना नहीं छोड़ा।


अगर आप थोड़ा सा गहराई से सोचेंगे तो आप पाएँगे कि हेलेन, जो स्वयं मरने के लिए मानसिक रूप से तैयार थी, की हर हाल में हंसते-मुस्कुराते रहने की आदत ने उसके और परिवार के जीवन को बचा लिया था। असल में हेलेन का मुस्कुराना उसकी सकारात्मकता का परिचायक था, जो अंत में उसकी रिहाई की वजह बना।


दोस्तों, एक मुस्कुराहट हज़ार शब्दों से ज़्यादा कहती है, एक मुस्कुराहट आपके ग़म, आपके तनाव, आपकी थकान कुल मिलाकर कहूँ तो आपकी शारीरिक-मानसिक परेशानी या थकान को दूर कर सकती है। आपकी मुस्कान दूसरों के साथ आपके रिश्ते को मजबूत बनाने का सबसे अच्छा हथियार है। जहां भी जरूरी हो अपनी मुस्कान बिखेरें और जीवन में सफल बनें!


तो चलिए दोस्तों, आज से एक निर्णय लें और थोड़ा मुस्कुराएँ। मुस्कुराना आपके चेहरे को खूबसूरत बनाता है। जो आपके सम्पर्क में आ रहे हैं उनके साथ मुस्कुराते हुए दया का व्यवहार करें क्यूँकि जहाँ मुस्कुराहट होती है वही दोस्ती बढ़ती है। जी हाँ साथियों, आपकी मुस्कुराहट ही किसी रिश्ते को मज़बूत बनाने और जीवन की ज़्यादातर समस्याओं को आसान बनाने के लिए काफ़ी है।

-निर्मल भटनागर

एजुकेशनल कंसलटेंट एवं मोटिवेशनल स्पीकर

nirmalbhatnagar@dreamsachievers.com


7 views0 comments